यह कैसे पात्र हो तुम ?

तुम गहरे भावों को
शब्दों में
तलाशते
बारिकियों से तराशते
फिर छूते उन्हें
नर्म गुलाबी हाथों से
रुप देते
उन शब्दों को
और फिर बड़े
नज़ाकत से
एहसासों की
फसल उगाही
करते हुए
रच देते हो
सबसे सुंदर कविताएं
और साहित्य की अनसुनी
विधाओं में रचनाएं
एक उफान
एक सैलाब के साथ
बिना आहट के
कमान से
छोड़ते हो तीर
जो,
बयां करती किसी
स्त्री की ख़ूबसूरती ..

तुम एक
विशाल विस्तृत अशेष
अछोर
शब्दकोश हो
कि संभव है
हर स्त्री
प्रेम कर बैठे
उन शब्दों के
सैलाब से
उन शब्दों के
मुलायमियत से
उस स्याह से भी
जिससे तुम
खेलते हो
होली और
कुछ पन्ने मुस्कुरा
उठते हैं ..

मगर !
सब खोखलापन
बनावटीपन
दोहरी मानसिकता का
आवरण ओढ़े
आत्माविहीन
तुम,
एक बहेलिया
जो,
वर्णमाला की
जाल बुन
क़ैद करते हो
किसी की संवेदनाओं को
जीर्ण-शीर्ण करते
और खेलते
उनके जज़्बातों से
और फिर
विलुप्त हो जाते हो
एक दिन
किसी विलुप्त हुए
भाषा की तरह..

सुनो
हे कलियुगी कन्दर्प !
कितने संकीर्ण हो तुम
कैसे जी
पाते हो ?
सोच इतनी
कसाद तुम्हारी
यह कैसे पात्र हो तुम ?
अंदर से कुछ
बाहर से कुछ और
क्यों हो तुम ?

-अपर्णा विश्वनाथ🍁

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s