मंथन

*********

✍️मुख पुस्तिका fb सोशल साइट्स के अनेकों माध्यमों में से एक है की वजह से दुनिया भर में लोगों ने सैकड़ों हजारों की संख्या में  अनेकानेक मित्र बना लिए और जुड़ गए इस सिरे से उस सिरे तक❗

✍️अपनी जगह पर बैठे एक बटन छूकर दुनिया भर की सैर कर आते हैं ❗ कुछ लोगों को तो इसमें अधिकतम सीमा % के चरम को स्पर्श करने का सौभाग्य प्राप्त है❗

✍️खैर ऐ भी अपनी अपनी आदतों और स्वाभाव की बात है
कोई अंतर्मुखी तो कोई बहिर्मुखी हैं 

✍️लेकिन कुछ भी हो हर कोई अपने मतलब से सराबोर हैं।
कोई बिछड़े रिश्तों को, कोई बचपन के दोस्तों को, कोई बिजनेस , तो कोई दिल के कनेक्शनों को खोजने में तो कोई यहां चितचोर है❗

✍️वैसे मेरी भी लंबी फेहरिस्त है। कुछ मैंने बनाए कुछ सामने से अॉफर आए। मगर हम कितनों से वाकई में वाकिफ हो पाते हैं
शायद एक %भी नहीं❗ 路
अब आप सब लोगों का मुझे पता नहीं❗
कारण अलग-अलग हो सकते हैं❗
कोई एक्चुअल, कोई फेक्चुअल कोई वर्चुअल  जिन्हें आजतक हमने कभी देखा ही नहीं❗

✍️मुख पुस्तिका मित्रता है अगर चले तो चांद  तक न चले तो शाम तक

✍️ यथार्थ से परे मन को तिलस्मी तसल्ली से लबरेज करता यह मुख पुस्तिका❗️

✍️ कुछ लाइक्स♥️ कुछ छलावे भरे इमोशनल इमोजीस की असीम अनुकम्पा के दारोमदार पर टिका हो जैसे,❗

✍️खबरें मनोरंजन ज्ञान और सामाजिकता भी है यहां पर कितना हम इसका लाभ उठा पाते❓❓❗

✍️ कभी कभी तो लगता है यह अर्जुन और हम पार्थ हो गए ❗

✍️ हमने कर ली दुनिया मुट्ठी में इतनी परिश्रम दिन-रात की कि   
     

✍️इन सबके बीच कितनों ने फेक आईडी बनाके लोगों को उलझाई है ❗तो कई निकले वफादार ❗

✍️तो  इसे चेहरा पुस्तिका ना कहकर  मोहरा पुस्तिका भी कह       दें तो क्या बुराई है❗ दिल पे न लें ऐ मेरी पर्सनल राय है

हमसे हमारी ही बातें मुट्ठी से फिसलती गई ❗❗
   
   

✍️नेपोटिज्म के मामले में अछूता यह भी नहीं 😂

  क्रमशः ✍️⏭️……

__अपर्णा

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s